मुख्यमंत्री श्री नीतीष कुमार ने आज बिहार संग्रहालय के अस्थाई प्रदर्षनी दीर्घा में

मुख्यमंत्री श्री नीतीष कुमार ने आज बिहार
संग्रहालय के अस्थाई प्रदर्षनी दीर्घा में श्री हिम्मत
शाह  की
कलाकृतियों की लगायी गयी प्रदर्षनी का अवलोकन किया

पटना, 21 मई 2019:-ं मुख्यमंत्री श्री नीतीष कुमार ने आज बिहार
संग्रहालय के अस्थाई प्रदर्षनी दीर्घा में श्री हिम्मत
शाह  की
कलाकृतियों की लगायी गयी प्रदर्षनी का अवलोकन किया। अवलोकन के
क्रम में मुख्यमंत्री के परामर्षी श्री अंजनी कुमार सिंह ने प्रदर्षित की
गयी कलाकृतियों के संबंध में मुख्यमंत्री को विस्तृत जानकारी दी।
मुख्यमंत्री के समक्ष श्री हिम्मत –
शाह  पर बनायी गयी लघु चलचित्र तथा बिहार
संग्रहालय पर बनायी गयी लघु चलचित्र ‘बिहार संग्रहालय: एक आष्चर्य
लोक’ का प्रदर्षन किया गया। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने बिहार
संग्रहालय की इतिहास दीर्घा का भी अवलोकन किया तथा वहां
प्रदर्षित की गयी कलाकृतियों के संदर्भ में उपस्थित अधिकारियों
को आवष्यक दिषा निर्देष दिये।
बिहार संग्रहालय के भ्रमण के पष्चात् पत्रकारों द्वारा पूछे गये
सवाल पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आज दिल्ली
में एन0डी0ए0 की बैठक है जिसमें हिस्सा लेने के लिए जा रहे हैं।
एक्जिट पोल के सवाल पर उन्होंने कहा कि एक्जिट पोल के चाहे जो
भी नतीजे आएं लेकिन –
शुरू से ही हम आशान्वित  हैं  कि केन्द्र में
फिर से श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में एन0डी0ए0 की सरकार बनेगी।
उन्होंने कहा कि एन0डी0ए0 के घटक दलों की आज दिल्ली में
बैठक है जिसमें सभी लोग एक दूसरे से राय- करेंगे। मेरे द्वारा
किये गये 171 चुनावी सभाओं में लोगों का रिस्पांस अच्छा रहा,
जनता मालिक है और उन्हें ही फैसला देना है। 23 मई को
मतगणना होगी और उस दिन नतीजा सबके सामने आ जाएगा। उन्होंने
कहा कि चुनाव के दौरान कई तथ्यहीन बातें भी र्हुइं जिसका
कोई मतलब नहीं है। लोकतंत्र में जनता मालिक है।
ई0वी0एम0 गड़बड़ी के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि
ई0वी0एम0 में गड़बड़ी की कहीं कोई गुंजाइ-रु39या नहीं है।
ई0वी0एम0 एक तकनीक है और इसके आने के बाद से चुनाव में
पारदर्षिता आयी है।

उन्होंने कहा कि हम तो ई0वी0एम0 के हिमायती हैं
और जब एन0डी0ए0 की सरकार नहीं थी तभी ई0वी0एम0 आया था।
उन्होंने कहा कि जब विपक्ष हारने लगता है तो कई प्रकार की
मनग-सजय़ंत बातें करता है और ई0वी0एम0 पर भी सवाल उठाने लगता
है।
श्री तेजस्वी यादव द्वारा मतदान नहीं कर पाने के सवाल पर मुख्यमंत्री
ने कहा कि मतदान तो जरुर करना चाहिए और हम किसी पर व्यक्तिगत राय नहीं
देते हैं। उन्होंने कहा कि हम लगातार कहते रहे कि पहले मतदान
फिर जलपान। हमने स्वयं सुबह में मतदान केंद्र पर जाकर पहले मतदान किया
फिर जलपान किया।
बिहार विधान सभा चुनाव के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि
विधान सभा का चुनाव अपने नियत समय पर ही होगा। उन्होंने कहा
कि एन0डी0ए0 की सरकार बनेगी तो उसमे घटक दल -रु39याामिल होंगे ही।
बिहार को वि-रु39यो-ुनवजया राज्य के दर्जे के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि
मतदान देकर जब हम निकल रहे थे तो पत्रकार बंधुओं के सवाल पर ही
मैंने अपनी प्रतिक्रया दी थी। यह बात सही है कि वि-रु39यो-ुनवजया राज्य के दर्जे
की मांग सर्वसम्मति से बिहार विधान सभा और बिहार विधान परि-ुनवजयाद में
पारित हुआ था, इसलिये इसके लिये निरंतर प्रयास करने की जिम्मेवारी
हमलोगों की ही है। उन्होंने कहा कि इसके पक्ष में एक करोड़
लोगों ने हस्ताक्षर किये और उसे तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ0
मनमोहन सिंह को सौंपा गया। चैदहवें वित्त आयोग के
रेकमेंडे-रु39यान को आधार बनाकर केंद्र द्वारा यह बात कही गयी कि
वि-रु39यो-ुनवजया राज्य के दर्जे की बात नहीं हो सकती। इसके बारे में पहले से
कमिटमेंट है। ऐसी स्थिति में पन्द्रहवें वित्त आयोग के सामने
हमलोगों ने पूरी मजबूती और तर्कसंगत तरीके से अपनी बात रखी।
उन्होंने कहा कि अभी पन्द्रहवें वित्त आयोग के चेयरमैन वोट
देने भी आये हुए थे, व्यक्तिगत संबंध के तौर पर हमने उस दिन भी
उन्हें यह बात याद दिलाई है। उन्होंने कहा कि हमलोगों की
राय स्प-ुनवजयट है कि बिहार जैसे राज्य को वि-रु39यो-ुनवजया राज्य का दर्जा मिलना
चाहिए, इसके लिए 2006 से निरंतर हमलोग अपनी बात उठाते रहे हैं और
आगे भी प्रयास करते रहेंगे।
धारा 370 के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मामले पर हमारा रूख
एकदम स्प-ुनवजयट है। इसमें कही किसी तरह का विरोधाभास नहीं है।
उन्होंने कहा कि हम तो पहले से ही कहते रहे हैं कि धारा 370
हटाने की बात नहीं होनी चाहिए इसके साथ ही कॉमन सिविल कोड
को थोपने की बात भी नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि
अयोध्या मसले का समाधान आपसी सहमति या कोर्ट के आदे-रु39या से ही
होना चाहिये। मुख्यमंत्री ने कहा कि 1996 में जब पहली बार
हमलोगों की पार्टी का भाजपा के साथ गठबंधन हुआ उस समय ही

इन मसलों पर हमारा स्टैंड क्लियर है। भाजपा का अपना जो स्टैंड
है, वह एक दल के रूप में है, क्यांेकि एक पार्टी के रूप में सबके
अपने-ंउचयअपने विचार होते हैं लेकिन जब गठबंधन होता है तो काम
-रु39याुरू होने के पहले घटक दलों से हर मुद्दे पर विम-रु39र्या होता है।
चुनाव के दौरान प-िरु39यचम बंगाल में हुई हिंसा एवं -हजयड़प के सवाल पर
मुख्यमंत्री ने कहा कि प-िरु39यचम बंगाल की विचित्र स्थिति है। उन्होंने
कहा कि चुनाव कही भी हो फेयर -सजयंग से होना चाहिए। हर नागरिक
को वोट देने का अधिकार है, इसमें किसी भी प्रकार की
जोर-ंउचयजबरदस्ती नहीं होनी चाहिए।

Share

Related posts:

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published.